वेतन विसंगति दूर करने एवं अन्य मांगों को लेकर लिपिक वर्गीय कर्मचारी संघ ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

देवास। लिपिक वर्गीय कर्मचारी संघ जिला देवास ने प्रांतीय आवाह्न पर जिला अध्यक्ष नरेंद्र सिंह राजपूत के नेतृत्व में एडीएम श्री नरेंद्र सूर्यवंशी को अपनी अरसे से चली आ रही वेतन विसंगति सापेक्षता बहाल करने के लिए मुख्यमंत्री के नाम से ज्ञापन सौंपा। जिसमें मुख्य रुप से प्रांतीय उपाध्यक्ष श्री परमानंद चौहान, सुभाष शर्मा, सत्यनारायण वर्मा , दिनेश वर्मा ,गोवर्धन माली एवं लिपिक वर्गीय समस्त कर्मचारी उपस्थित रहे।
उन्होंने मांग की है कि लिपिकों के वेतनमानों में 1.4.81 से विखंडित सापेक्षता बहाल कर शिक्षकों के समान वेतनमान दिया जाए। समस्त 53 विभागों में सहायक ग्रेड 2 के पदोन्नति के पश्चात समस्त 53 विभागों में चार स्तरीय रचना क्रम लागू करते हुए सामान वरिष्ठता निर्धारण पदोन्नति एवं कार्यपालिक पदों पर वरिष्ठता के आधार पर पदोन्नति आदि समान रूप से लागू की जाए। लिपिक संवर्ग में नियुक्त कर्मचारियों का सीपीसीटी में कंप्यूटर की दक्षता की अनिवार्यता समाप्त की जाए। छत्तीसगढ़ राज्य सरकार की भांति प्रदेश के लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को भी कंप्यूटर भत्ता प्रतिमाह 1000 दिया जाए । शासकीय सेवकों को पूर्व की भांति वर्ष 2005 से पेंशन का पात्र करने के आदेश जारी किए जाएं । वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा जारी निर्वाचन घोषणा पत्र में किए गए प्रावधान के परिपालन में 1.4.81 से लिपिक संवर्ग के समस्त पदों को 1000 प्रति माह अंतरिम राहत स्वीकृत की जाए।

Post Author: Vijendra Upadhyay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

87 − = 78