पुरूषोत्तम शर्मा महानिदेशक/संचालक लोक अभियोजन म.प्र.ने नियुक्त किये 05 राज्य समन्वयक

देवास/ लोक अभियोजन अधिकारी, राजेन्द्र खांडेगर जिला देवास द्वारा बताया गया कि महानिदेशक/संचालक लोक अभियोजन म.प्र. पुरूषोत्तम शर्मा (आईपीएस) द्वारा म.प्र. में राज्य समन्वयकों की नियुक्ति की गई है। शर्मा जी द्वारा त्रिलोकचन्द बिल्लोरे, उप संचालक धार को अनुसूचित जाति/अनूसूचित जनजाति अधिनियम के प्रकरणों हेतु, अकरम शेख जिला अभियोजन अधिकारी इन्दौर को एनडीपीएस अधिनियम के प्रकरणों हेतु, सुश्री सीमा शर्मा विशेष लोक अभियोजक रतलाम को लैंगिक अपराधों से बालको के संरक्षण अधिनियम के प्रकरणों हेतु, श्रीमती मनीषा पटेल विशेष लोक अभियोजक भोपाल को महिलाओं से संबंधित प्रकरणों हेतु तथा श्रीमती सुधा विजयसिंह भदौरिया सहायक जिला अभियोजन अधिकारी भोपाल को वन्य एवं वन्य प्राणी से संबंधित प्रकरणों हेतु राज्य समन्वयक नियुक्त किया गया है।

प्रमुख जनसंपर्क अधिकारी लोक अभियोजन म.प्र. श्रीमती मौसमी तिवारी द्वारा बताया गया कि माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान एवं माननीय ग्रहमंत्री नरोत्तम मिश्रा द्वारा समय-समय पर यह निर्देश जारी किये गये है कि महिला एवं बालकों के विरूद्ध गंभीर अपराध एवं समाज पर व्यापक प्रभाव डालने वाले प्रकरणों के प्रति म.प्र. राज्य शासन गंभीर हैं और इसी को ध्यान में रखते हुये पुरूषोत्तम शर्मा द्वारा राज्य समन्वयकों की नियुक्ति की गई है।

पुरूषोत्तम शर्मा म.प्र. के अनुसार राज्य एवं राष्ट्र को प्रभावित करने वाले अपराध जैसे- महिला एवं बालकों के विरूद्ध लैंगिक शोषण, युवाओं की पूरी आने वाली पीढी को प्रभावित करने वाले ड्रग्स एवं नशीले पदार्थो के अपराध, समाज के अत्यन्त पिछडे वर्ग अजा.एवं अजजा. के विरूद्ध भेदभाव वाले अपराध एवं प्रकृति के विरूद्ध किये जाने वाले अपराधों को गंभीरता में लेने की आवश्यकता है। इसीलिये मेरे द्वारा उक्त प्रकरणों के प्रभावी एवं अनुसंधान अभियोजन की आवश्यकता को समझते हुये 05 राज्य समन्वयकों की नियुक्ति की गई है। मैं स्वयं उक्त अपराधों के न्यायालयीन निराकरण समय पर होने तथा अपराधियों को अधिक से अधिक दण्ड दिलाने हेतु प्रतिबद्ध हूॅ तथा माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान एवं माननीय ग्रहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (म.प्र.) को अपराध मुक्त तथा महिलओं एवं बालकों के संरक्षण हेतु सुरक्षित बनाने के संकल्प को मूर्त रूप देने हेतु मैं और मेरा विभाग पूर्णरूप से प्रतिबद्ध एवं प्रयासरत है, और इसी तारतम्य में मेरे द्वारा किये गये राज्य समन्वयक मेरे आदेशों के अधीन अपने-अपने क्षेत्रों के पूरे राज्य में आयोजित किये जा रहे प्रकरणों की माॅनीटरिंग कर समय-समय पर मुझे रिपोर्ट प्रेषित करेंगें ताकि मैं स्वयं राज्य में संचालित इन समस्त प्रकरणों हेतु उचित दिशा-निर्देश जारी कर सकूॅ। राज्य समन्वयक के माध्यम से समय-समय पर प्रशिक्षण और अन्य सुविधाएं, प्रकरण के संचालनकर्ता अभियोजन अधिकारी को उसकी व्यवसायिक दक्षता के संवर्धन हेतु प्रदान की जा सकेगी। इस हेतु मेरे द्वारा समस्त राज्य समन्वयकों को उनका कार्य प्रारंभ करने हेतु दिशा-निर्देश जारी किये गये है।

श्रीमती तिवारी ने यह भी बताया कि राज्य समन्वयकों की नियुक्ति श्रीमान संचालक महोदय के मुख्य उद्देश्य ‘‘समाज को प्रभावित करने वाले अपराधों का समयानुचित न्यायपूर्ण निराकरण कराना एवं उक्त प्रकरणों में सरल,सुलभ एवं प्रभावी अभियेाजन सुनिश्चित करना है।‘‘ निश्चित ही यह प्रयास अपराधियों में भय व्याप्त करेगा एवं पीड़ितो को न्याय प्रदान करने में सहायक होगा।

Post Author: Vijendra Upadhyay