8 साल की उम्र में ही महागौरी को अपने पूर्व जन्म की घटनाओं का अभास हो गया था

नवरात्र के आठवें दिन माता आदि शक्ति के महागौरी स्वरूप की पूजा की जाती है। शिवपुराण के अनुसार, महागौरी को 8 साल की उम्र में ही अपने पूर्व जन्म की घटनाओं का आभास हो गया था। इसलिए उन्होंने 8 साल की उम्र से ही शिव भगवान को पति रूप में पाने के लिए तपस्या शुरू […]

आरती के बाद क्यों बोलते हैं कर्पूरगौरं मंत्र :

किसी भी मंदिर में या हमारे घर में जब भी पूजन कर्म होते हैं तो वहां कुछ मंत्रों का जप अनिवार्य रूप से किया जाता है, सभी देवी-देवताओं के मंत्र अलग-अलग हैं, लेकिन जब भी आरती पूर्ण होती है तो यह मंत्र विशेष रूप से बोला जाता है l *कर्पूरगौरं मंत्र :* *कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं […]

जानिए गणपती जी क्यों बिठाते हैं ?

हम सभी हर साल गणपती की स्थापना करते हैं, साधारण भाषा में गणपती को बैठाते हैं। लेकिन क्यों ??? किसी को मालूम है क्या ?? हमारे धर्म ग्रंथों के अनुसार, महर्षि वेद व्यास ने महाभारत की रचना की है। लेकिन लिखना उनके वश का नहीं था। अतः उन्होंने श्री गणेश जी की आराधना की और […]

जन्माष्टमी में हांडी फोड़ का महत्व..

मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया जमुना के तट पे विराजे हैं, मोर मुकुट पर कानों में कुण्डल कर में मुरलिया  साजे है…… मानव जीवन सबसे सुंदर और सर्वोत्तम होता है. मानव जीवन की खुशियों का कुछ ऐसा जलवा है कि भगवान भी इस खुशी को महसूस करने समय-समय पर धरती पर आते हैं. शास्त्रों के अनुसार भगवान […]

तिलक लगाने का क्या महत्व है?

माथे पर तिलक लगाने का क्या महत्व है? भारत के सिवा और कहीं भी मस्तक पर तिलक लगाने की प्रथा शायद ही कहीं और भी प्रचलित हो। यह हिन्दू रीति रिवाज अत्यंत प्राचीन है। माना जाता है कि मनुष्य के मस्तक के मध्य में विष्णु भगवान का निवास होता है, और तिलक ठीक इसी स्थान […]