सुवरो को आज़ाद खुला छोड़ कर कुत्तों पर बरस रहे है नगरनिगम वाले

देवास। मुखर्जी नगर में पशु प्रेमियों के लाख अनुनय विनय के बावजूद भी नगर निगम अपनी क्रूरता से बाज नहीं आया। एक गर्भवती कुत्तिया को लोहे के चिमटे से खतरनाक तरीके से पकड़ कर फेंक रहे हैं, जिससे हो सकता है उसके पेट में पल रहे बच्चे भी मर गए होंगे। लोकल रहवासियों के अनुरोध करने के बावजूद भी नगर निगम कर्मचारी नहीं मानते और कुत्ता और कुतिया ऊपर जुल्म कर रहे हैं जिससे हो सकता है उनकी मौत हो रही है।
पशु प्रेमियों ने इस प्रकार जुल्म करने के बजाय उनकी नसबंदी करने की कई बार सलाह दी है परंतु बजट का अभाव होने का सहारा लेकर इस तरफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती। जबकि फिजूलखर्ची पर लाखों-करोड़ों पर नगर निगम उड़ा देता है।
वही नगर निगम द्वारा वही सुवरो को खुला छोड़ा जाता है ओर गली मोहल्लों की निगरानी करने वाले कुत्तों को पकड़ा जाता है।
हा कुछ कुत्ते जरूर नुकसान पहुँचते है लेकिन ऐसे कुत्ते फिर भी नगर निगम की पकड़ से दूर रहते है ओर सीधे साधे कुत्तों को पकड़ लिया जाता है।

Post Author: Vijendra Upadhyay

Leave a Reply