पहली बार कोई स्कूल संचालक आया खुलकर छात्र-पालक के खिलाफ

-संचालक को मिली स्कूल बंद कराने की धमकी
-पुलिस अधीक्षक को आवेदन देकर की जांच कर उचित कार्रवाई की मांग

देवास/ सामान्यत: अब तक देवास शहर में कोई स्कूल संचालक खुलकर छात्र अथवा पालक के खिलाफ नहीं आया है। इसी सहयोग को कमजोर मानते हुए एक छात्र और उसके पालक ने स्कूल की फीस जमा करवाना तो दूर की बात, बल्कि स्कूल बंद करवाने की धमकी तक दे डाली। बाद में छात्रा, उसकी बहन, माता सहित परिजनों ने पुलिस के सामने यह बताने का प्रयास किया कि वे दूध के धूले हैं और सारी की सारी गलती स्कूल प्रबंधन की है।
ऐसे में स्कूल संचालक खुलकर सामने आया और पुलिस अधीक्षक को आवेदन देते हुए कहा कि इस मामले की गंभीरता से जांच कर उचित कार्रवाई की जाए। मामला सरदाना वर्ल्ड स्कूल से जुड़ा है।
स्कूल संचालक ललित सरदाना ने बताया चार वर्षों से उनके विद्यालय में अध्ययनरत छात्रा प्रियंशा पटेल की चालू वर्ष की पूरी फीस (21 हजार रुपए) बकाया है। जबकि पिछले शिक्षा सत्र की 11वीं कक्षा की भी 10 हजार रुपए की फीस बकाया है। उस दौरान छात्रा के पालक द्वारा फोन पर अपशब्द कहते हुए धमकियां दी गई। बावजूद विद्यालय प्रबंधन ने पालक के खिलाफ कोई एक्शन इसलिए नहीं लिया गया कि छात्रा का भविष्य खराब न हो इसलिए 11वीं की परीक्षा में शामिल होने दिया गया। बकाया फीस जमा करने की सूचना बार-बार दी गई लेकिन ऐन-केन-प्रकारेन फीस जमा नहीं की गई। इस पर भी प्रबंधन ने छात्रा के भविष्य को देखते हुए 12वीं में भी अध्ययन सतत जारी रखा गया। विद्यालय प्रबंधन ने छात्रा को विद्यालय से दी जा रही शिक्षण व्यवस्था सहित अन्य सुविधाओं में कोई कटौती नहीं की। प्रबंधन की नम्रता ही कहा जाएगा कि पूरी फीस बकाया होने के बावजूद 12वीं का कक्षा शुल्क प्रबंधन ने अपने पास से जमा करवाया और प्रैक्टिकल एक्जाम तथा प्रोजेक्ट में भी पूरा सहयोग किया। विद्यालय प्रबंधन तब विचलित हो गया जब इतना सब सहयोग करने के बावजूद छात्रा की बहन गार्गी पटेल ने पुलिस में विद्यालय डायरेक्टर व प्राचार्य के खिलाफ आवेदन दिया। ऐसे में विद्यालय डायरेक्टर ललित सरदाना ने पुलिस को वस्तुस्थिति बताते हुए आवेदन दिया।
यह कहा स्कूल डायरेक्टर ललित सरदाना ने
स्कूल प्रबंधन के नम्रता का फायदा उठाते हुए संबंधित शिकायतकर्ता ने झूठे आरोप लगाए हैं। 11वीं की भी 10 हजार रुपए फीस बकाया है और 12वीं की भी पूरी फीस बकाया है। छात्रा के प्रति सहानुभूतिपूर्वक भविष्य को देखते हुए विद्यालय से दी जाने वाली सारी सुविधाएं जारी रखी। छात्रा प्रियंशा पटेल बकायदा 12वीं की प्रैक्टिल परीक्षा में शामिल हुई, प्रोजेक्ट फाइल भी जमा की है। टीसी के लिए छात्रा ने कोई आवेदन नहीं दिया और ना ही आज दिनांक 28 फरवरी तक कोई टीसी लेने आया। विद्यालय में आकर मुझे छात्रा की बहन गार्गी पटेल ने विद्यालय बंद कराने की धमकी दी। यह विद्यालय प्रबंधन को बदनाम करने की साजिश है। मैंने पुलिस अधीक्षक को आवेदन दिया है कि इस मामले को गंभीरता से लेकर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

Post Author: Vijendra Upadhyay

Leave a Reply